(+91) 8877447734CONTACT US
0item(s)

You have no items in your shopping cart.

Product was successfully added to your shopping cart.
Set Descending Direction

Items 1 to 5 of 19 total

  1. 1
  2. 2
  3. 3
  4. 4
आप लिप बाम का इस्‍तेमाल करती होगी। लेकिन अगर हम आपसे कहें कि लिप बाम का इस्‍तेमाल केवल फटे होठों से बचने के लिए ही नहीं बल्कि अन्‍य चीजों में भी कर सकती है तो शायद आपको यकीन नही होगा। जी हां आप लिप बाम का इस्‍तेमाल रूखे बालों को सॉफ्ट बनाने, पैरों के छालों से बचने और जैसे कामों में भी किया जा सकता है। आइए लिप बाम के अनोखे इस्‍तेमाल के बारे में जानें।
पैरों को छाले से बचाएं अक्‍सर नए जूते या सैंडल पहनने से पैरों में छाले पड़ जाते है। छालों से बचने के लिए जूते या सैंडल पहनने से पहले आप अपने पैरों की अंगुलियों और एड़ी पर लिप बाम लगा लें। इससे आपके पैरों में छाले नहीं होगें।Read More
ब्‍लड ग्रुप सबसे पहले 1901 में ब्‍लड ग्रुप की जानकारी हुई, उसके बाद से इसे लेकर कई रोचक और दिलचस्‍प शोध भी होते रहे हैं। ब्लड-ग्रुप 8 तरह के होते हैं - ए, बी, एबी और ओ पॉजिटिव या निगेटिव। केवल समान ब्लड ग्रुप वाले व्यक्तियों के खून की अदला-बदली हो सकती है। ब्लड ग्रुप में अंतर खून में पाए जाने वाले अणुओं, जिन्हें एंटीजन और एंटीबॉडी कहते हैं, के कारण होती है। एंटीजन, खून में पाई जाने वाली लाल रक्त कणिकाओं की सतह पर पाए जो हैं और एंटीबॉडी ब्लड प्लाजमा में। आमतौर पर लोगों में पाया जाने वाला ब्लड ग्रुप आनुवांशिक होता है। इससे जुड़े कुछ दिलचस्‍प शोध के बारे में जाने।

ए पॉजिटिव A(+)

जिन लोगों का ब्‍ल्‍ड ग्रुप ए पॉजिटिव होता है उनमें अच्‍छी नेतृत्‍व क्षमता देखी जाती है। ए पॉजिटिव रक्‍त समूह वाले लोग अच्‍छे तरीके से नेतृत्‍व कर सकते हैं। वे सबको साथ लेकर चलने और सबका व‍िश्‍वास हासिल करने में यकीन रखते हैं। अगर आपका रक्‍त समूह ए पॉजीटिव है तो आप ए पॉजीटिव, ए नेगेटिव, ओ पॉजीटिव और ओ नेगेटिव ब्‍लड ग्रुप का ब्‍लड ले सकते हैं।

ए निगेटिव A(-)

ए निगेटिव रक्‍त समूह वाले लोगों को मेहनती माना जाता है। ऐसे लोग मेहनत करने से पीछे नहीं हटते हैं। कठिन और लगातार काम करने में भी इनको कोई परहेज नहीं है। ये लोग मानते हैं कि मेहनत का कोई विकल्‍प नहीं होता। जिन लोगों का ब्‍लड ग्रुप ए नेगेटिव है उन्‍हें ए नेगेटिव और ओ नेगेटिव वाले लोगों का ब्‍लड ही चढ़ाया जा सकता है।

Read More

सेंधा नमक : भारत से कैसे गायब कर दिया गया, शरीर के लिए Best Alkalizer है :-
आप सोच रहे होंगे की ये सेंधा नमक बनता कैसे है ?? आइये आज हम आपको बताते हैं कि नमक मुख्य कितने प्रकार होते हैं। एक होता है समुद्री नमक दूसरा होता है सेंधा नमक (rock salt) । सेंधा नमक बनता नहीं है पहले से ही बना बनाया है। पूरे उत्तर भारतीय उपमहाद्वीप में खनिज पत्थर के नमक को ‘सेंधा नमक’ या ‘सैन्धव नमक’, लाहोरी नमक आदि आदि नाम से जाना जाता है । जिसका मतलब है ‘सिंध या सिन्धु के इलाक़े से आया हुआ’। वहाँ नमक के बड़े बड़े पहाड़ है सुरंगे है । वहाँ से ये नमक आता है। मोटे मोटे टुकड़ो मे होता है आजकल पीसा हुआ भी आने लगा है यह ह्रदय के लिये उत्तम, दीपन और पाचन मे मदद रूप, त्रिदोष शामक, शीतवीर्य अर्थात ठंडी तासीर वाला, पचने मे हल्का है । इससे पाचक रस बढ़्ते हैं। तों अंत आप ये समुद्री नमक के चक्कर से बाहर निकले। काला नमक ,सेंधा नमक प्रयोग करे, क्यूंकि ये प्रकर्ति का बनाया है ईश्वर का बनाया हुआ है। और सदैव याद रखे इंसान जरूर शैतान हो सकता है लेकिन भगवान कभी शैतान नहीं होता।

Read More

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज झारखंड के रांची से सरकार की प्रमुख आयुष्मान भारत (प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना) लांच करेंगे। इस योजना के तहत देश के 10 करोड़ से ज्यादा परिवारों को 5 लाख रुपये तक के मुफ्त स्वास्थ्य बीमा की सुविधा दी जाएगी। 

Read More
Set Descending Direction

Items 1 to 5 of 19 total

  1. 1
  2. 2
  3. 3
  4. 4